Thursday, 13th December 2018
banner

घर

श्री गुरुभ्यो नमः

संस्कार आदमी को वैदिक जीवन जीने के लिए सक्षम बनाता है। वैदिक जीवन परिपूर्ण जीवन होता है। जीवन में पूर्णता तब होगा जब हम मन,शरीर और आत्मा को एक साथ पोषणकरें। संस्कारें अमूल्य वेदों की वह निहित रहस्य है जो पूर्वजों उनके निरंतर और अथक प्रयासों के कारण संरक्षित कर रखें है। उन्होने न केवल उपदेश दी बल्कि उन्हें लगातार अभ्यास भी कर दिखाये हैं।